असम में रतन टाटा की भावुक स्पीच, कहा- मेरी जिंदगी के आखिरी साल स्वास्थ्य के नाम समर्पित

Spread the love with your friends

 नई दिल्ली: गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में कैंसर अस्पतालों की नींव रखी। मौके पर रतन टाटा ने बेहद भावुक स्पीच दी। अपनी स्पीच की शुरुआत अंग्रेजी से करते हुए उन्होंने कहा कि वे अपनी जिंदगी के आखिरी साल स्वास्थ्य को समर्पित कर रहे हैं। इस दौरान उनकी आवाज में एक थरथराहट थी और वे रुक-रुककर बोल रहे थे।

रतन टाटा ने हिंदी नहीं बोल पाने के लिए माफी मांगी। उन्होंने कहा मैं हिंदी नहीं बोल पाऊंगा, इसलिए अंग्रेजी में बोलूंगा। लेकिन मैं जो भी बोलूंगा, वह सीधे मेरे दिल की बात है। हालांकि इसके बाद उन्होंने हिंदी में भी बात करके सभी का दिल जीत लिया। इस दौरान रतन टाटा के साथ मंच पर पीएम मोदी, राज्य के CM हेमंत बिस्वा सरमा और पूर्व CM सर्वानंद सोनोवाल भी मौजूद थे। पीएम मोदी ने ताली बजाकर रतन टाटा के स्पीच की तारीफ की।

गरीब और मिडिल क्लास परिवार प्रभावित

प्रधानमंत्री ने असम के लिए 7 नए कैंसर अस्पतालों की आधारशिला रखी और 6 कैंसर अस्पतालों का उद्घाटन किया। कैंसर अस्पतालों का उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान PM मोदी ने कहा कि असम ही नहीं नॉर्थ ईस्ट में कैंसर एक बहुत बड़ी समस्या रही है।

इससे सबसे अधिक हमारे गरीब और मिडिल क्लास परिवार प्रभावित होते हैं। कैंसर के इलाज के लिए कुछ साल पहले तक यहां के पेशेंट्स को बड़े शहरों में जाना पड़ता था। इससे इन परिवारों पर भारी बोझ पड़ता था। इसे दूर करने के लिए बीते 5-6 सालों से जो कदम यहां उठाए गए हैं, उसके लिए मैं सर्वानंद सोनोवाल जी, हेमंता जी और टाटा ट्रस्ट को बहुत साधुवाद देता हूं।


Spread the love with your friends

Leave a Comment

PHP Code Snippets Powered By : XYZScripts.com